मध्यप्रदेश की लोकसभा सीटों का एक विश्लेषण

 

मध्य प्रदेश में लोकसभा चुनाव  29 अप्रैल से 19 मई के बीच 4 चरणों में होंगे। हम मध्य प्रदेश की राजनीतिक समीकरणों का तीन भागों में विश्लेषण करेंगे। पहले भाग में, हम उन 9 सीटों पर नज़र डालेंगे जहाँ INC और BJP के अलावा अन्य दलों की भी कुछ उपस्थिति रहती है, ये हैं – रीवा (10), सीधी (11), सतना (09), मुरैना (01), भिंड (02), ग्वालियर (03), खजुराहो (08), टीकमगढ़ (06), बालाघाट (15)।

एक राजनीतिक परामर्शदाता/विश्लेषक के रूप में, हम कुछ सीटों पर 2018 के राज्य विधानसभा चुनावों में सक्रिय थे, और मतदाता को प्रभावित करने वाले कारणों (voter behaviour study) का परीक्षण के आधार पर चुनावी रणनीति और अभियान तैयार किये। हमने कुछ निर्णायक रुझानों का पता लगाने की कोशिश करते हुए 2009 के लोकसभा चुनाव, 2013 के विधानसभा, 2014 के लोकसभा और 2018 के विधानसभा चुनावों का सांख्यिकीय विश्लेषण किया। मध्य प्रदेश राजनीतिक दृष्टि से दो-पक्षीय राज्य बना हुआ है, हमने मुख्य रूप से गैर-कांग्रेसी/बीजेपी के वोटों पर अपना अध्ययन केंद्रित किया- कैसे वे विधनसभा से संसदीय चुनावों में बदलते है, और INC और BJP में से किसे अधिक लाभ होता है।

 

समझने में आसानी हो इसके लिए, हमने 3-4 प्रमुख कारकों को समझा, जो अधिकांश वोट के झुकाव को समझाते हैं। फैक्टर -1 में, हमने बीएसपी, एसपी, एएपी और जीजीपी जैसी पार्टियों को रखा जहां वे प्रासंगिक हैं। फैक्टर -2 में अन्य छोटे दल और स्वतंत्र उम्मीदवार शामिल हैं, जिनमें प्रमुख निर्दलीय (विधानसभा में 10,000+ वोट और संसदीय चुनावों में 30,000+ वोट प्राप्त करने वाले) अलग से उल्लेखित हैं।

 

कारक -3 में, हमने NOTA वोटों को रखा। 20 दिनों की अवधि में फैले 4 लंबे चरणों का असर भी होगा, क्योंकि पहले और दूसरे चरणों में जिस पार्टी के पक्ष में ज़्यादा मतदान होता है, तीसरे और चौथे  चरणों में उन्हीं की तरफ और ज़्यादा मतदान होता है, इसे ‘बैंडवागन प्रभाव’ (bandwagon effect -मनोवैज्ञानिक प्रकिया जिसमे लोग अन्य लोगो के कुछ करने पर वैसा ही करने लगते हैं, भले ही उनकी अपनी मान्यताएं कुछ औऱ हों, जिन्हें वे नजरअंदाज कर देते हैं) द्वारा समझाया जाता है|

 

जैसा कि CSDS (Centre for Study of Development of Society) ने अपने कई अध्ययनों में बताया है, राष्ट्रीय राजनीति और मुद्दों का मप्र में किसी भी उत्तरी राज्य की तुलना में कहीं अधिक प्रभाव है, ये तथ्य इस बात से भी प्रमाणित होता है कि क्षेत्रीय दलों ने अभी अपना प्रभाव नहीं बना पाए है।

 

तारिक थचिल ने अपनी पुस्तक, एलीट पार्टीज, पुअर वोटर्स: हाउ सोशल सर्विसेज विन वोट इन इंडिया (Elite parties and poor voters: How social services win vote in India) में बताया कि किस तरह से आरएसएस और उसके संगठनों द्वारा क्रियान्वित ‘समाज सेवा रणनीति’ की भूमिका, खासकर आदिवासियों के बीच ‘वनवासी कल्याण आश्रम’ की गतिविधियों से, 2014 के आम चुनावों में बीजेपी को बहुत मदद मिली। यह अभी भी 2019 के आम चुनावों में भाजपा को सुरक्षित वोट देने में मदद करना चाहिए, और इसका प्रभाव कुछ विशेष जेबों में भी बढ़ सकता है, भले ही राज्य में शासन बदल गया हो। इसके अलावा, 2007-2008 में पिछले सीएम शिवराज सिंह द्वारा लाए गए धर्मांतरण-विरोधी कानून का समर्थन करने के कारण, आरएसएस आदिवासियों को हिंदुत्व के पल्लू में लाने में काफी हद तक सफल रहा।

 

कुछ सामाजिक शोधकर्ताओं का कहना है कि वैश्वीकरण व्यक्ति को सशक्त बनाता है लेकिन मानव समुदायों को कमजोर करता है (काशिमा एट अल, 2011)। वैश्वीकरण और शहरीकरण के कारण होने वाले सामाजिक मंथन, आय के स्तर में असमान वृद्धि और असमानता ने ग्रामीण मतदाताओं में प्रतिक्रियात्मक तर्कों को बढ़ाया; अधिकांश ग्रामीण इस बदलाव के वास्तविक कारणों की नही पहचान पाते औऱ सामाजिक रूढ़िवाद की ओर रुख कर लेते हैं।

 

एक औऱ महत्वपूर्ण बात यह होगी कि ये पहला चुनाव है जहाँ महिलाओं को व्हाट्सएप, फेसबुक पर स्मार्टफोन के माध्यम से इतनी ज़्यादा मात्रा में राजनीतिक सामग्री और प्रचार से अवगत कराया गया, महिलाये ज़्यादा संवेदनशील होती है, परिवार के बारे में ज़्यादा सोचती हैं और देखा जाए तो पुरुषो से ज़्यादा प्रैक्टिकल भी होती हैं, इसलिए उनकी प्राथमिकताएं पुरुषों से अलग होती है और वे निश्चित रूप से अलग पहलुओं को ध्यान में रखकर मतदान करेंगी। ये कहना थोड़ा मुश्किल है की किस पार्टी को इससे ज़्यादा फायदा होगा।

 

रीवा (10): इस क्षेत्र को जाति के आधार पर वोट देने के लिए जाना जाता है, उदारीकरण, निजीकरण, वैश्वीकरण सुधारों के साथ प्रौद्योगिकी सामंती संस्था को उतना प्रभावित नहीं कर पायी है जितना कि मध्यप्रदेश के दूसरे क्षेत्रों में किया है।

1991 से, BSP ने क्रमशः 1991, 1996 और 2009 में तीन बार इस सीट का प्रतिनिधित्व किया है। 2014 में, बीएसपी उम्मीदवार 175567 वोटों के साथ तीसरे स्थान पर था, 1998, 1999 और 2004 में बीएसपी को दूसरा स्थान मिला था। इसलिए, यह कहा जा सकता है कि बीएसपी इस सीट पर एक प्रमुख दावेदार है, जो 1991 के बाद से हर चुनाव में कम से कम 20% वोट हासिल करती है। 2018 के राज्य विधानसभा चुनावों में यहां की 8 विधानसभा सीटों पर इसे 192185 वोट मिले, जिससे INC को भारी नुकसान हुआ। बीजेपी को दोगुना से ज़्यादा (419720) वोट मिले। INC ने आखिरी बार यहां 1999 में वरिष्ठ ब्राह्मण कांग्रेस नेता श्री सुंदर लाल तिवारी (जिनके हाल ही में निधन हो गया और उनके बेटे को आगामी चुनाव के लिए INC का टिकट दिया गया था) के तत्वावधान में जीत हासिल की थी।

 

सीमावर्ती राज्य उत्तर प्रदेश में सपा + बसपा के अच्छे प्रदर्शन की आशा और बनने वाली के केंद्र सरकार में श्रीमती मायावती जी की अधिक महत्वपूर्ण भूमिका की उम्मीद BSP समर्थकों को उत्साहित कर रही है औऱ बसपा को अधिक प्रतिशत वोट मिलने की उम्मीद है, या ये कहा जा सकता है की रीवा सीट जीतना कांग्रेस के लिए इस बार भी दूभर होगा।

 

As per 2013 assembly trends 2014 lok sabha results As per 2018 assembly trends
65034 lead by BJP 168726 lead by BJP 98725 lead by BJP
BSP=217675 BSP=175567; AAP=5835 BSP=192164; AAP+sapaks=12937
Other+indp=138543;

2 major independents =

13097+25510

Other+indp=40028

 

 

Other+indp=106761;

2 major indp=11144+10372

Nota=6818 Nota=10658 Nota=7090

 

उच्च मतदान प्रतिशत निश्चित रूप से बीजेपी के खिलाफ जाएगा, लेकिन कांग्रेस से ज्यादा बसपा के पक्ष में जा सकता  है; राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पिछले 5 वर्षों के सतत और व्यापक कार्यक्रमों और प्रयासों से निश्चित रूप से कुछ असर होंगा, और दिन-प्रतिदिन सार्वजनिक जीवन में राष्ट्रवाद के बढ़ते प्रभाव से ये और पक्का होने की आशंका है।

 

INC के लिए बहुत अधिक सहानुभूति वोटों की उम्मीद नहीं है और यदि BSP 2018 के विधानसभा चुनावों में मिले कुल मतों का 60% भी हासिल कर पाई, तो भाजपा को एक आसान जीत मिलनी चाहिए।

 

सतना (09): विंध्य स्कार्पलैंड के विधायकों का प्रतिनिधित्व श्री अजीज कुरैशी और स्व०श्री अर्जुन सिंह जैसे कांग्रेस के दिग्गजों ने किया है, लेकिन बसपा उम्मीदवार सुखलाल कुशवाहा ने 1996 में 6% से अधिक के अंतर से जीत हासिल की थी। ​​सुखलाल कुशवाहा ने 2009 में 190206 मतों के साथ दूसरा स्थान हासिल किया। हालांकि 2014 में, एक नए उम्मीदवार के साथ, बसपा के वोट 124602 तक कम हो गए थे। 2018 के विधानसभा चुनावों में बसपा को 187844 वोट मिले, जबकि 2013 में 251743 के मुकाबले।

 

As per 2013 assembly trends 2014 lok sabha results
53306  lead by BJP 8688  lead by BJP 28345 lead by BJP
BSP=251743;

GGP=21080

BSP=124602; AAP=7925

GGP=2155

BSP=187844; AAP+sapaks=19686;

GGP=2234

Other+indp=93146;

1 major indp=10575

Other+indp=23828;

 

Other+indp=37915;

1 major indp=42504

Nota=9404 Nota=13036 Nota=20921

 

2014 के आम चुनावों में, श्री अजय राहुल सिंह को गणेश सिंह ने एक 5000 मतो के मामूली अंतर (मोदी लहर के बीच ये एक उत्कृष्ट चुनौती थी, बावजूद इसके कि छह महीने पहले ही INC विधानसभा चुनाव में बुरी तरह से पराजित हुई थी) से हार गए। उन्हें 2013 के विधानसभा चुनावों (7 विधानसभा क्षेत्रों) के लिए सारे कांग्रेस प्रत्याशियों के मुकाबले 94000 अधिक वोट मिले। इस बार बीजेपी ने यहाँ से मौजूदा सांसद श्री गणेश सिंह और कांग्रेस ने विश्वासपात्र ब्राह्मण चेहरे राजाराम त्रिपाठी को मैदान में उतारा है। सांख्यिकी के हिसाब से अभी BJP के पास 30000 वोटों का छोटी से बढत है, अगर बसपा विधानसभा में मिले मतों का 60-70% भी हासिल कर पाई है तो फिर से INC का खेल बिगाड़ सकती है।

 

रीवा और सतना लगभग समान रूप से व्यवहार करते हैं, इसलिए यदि बीजेपी को रीवा में बढ़त मिलती है, तो इससे सतना में भी उसे मदद मिलेगी।

 

सीधी (11): कांग्रेस ने पिछली बार 2007 में उपचुनाव में 1586 मतों के अंतर से जीत दर्ज की थी। इसके बाद 2009 में बीजेपी की बढ़त लगभग 45000 और 2014 में 108000 थी। 1962 से, सीधी में हमेशा ठाकुर सांसद रहे है, सिर्फ 2009 और 2014 को छोड़कर जब BJP ने ब्राह्मण उम्मीदवारों को मैदान में उतारा। कई इलाकों में मतदाता एक ठाकुर को वापस लाना चाहते हैं, लेकिन पिछले चुनावों के गणित से भाजपा  को यहां भी लगभग 40000-70000 की बढ़त नज़र आती है, जब तक कि INC नेता बहुत अच्छी रणनीति के साथ न उतरे।

 

बीएसपी ने इस सीट को कभी नहीं जीता है और 1991 से हमेशा तीसरे स्थान पर रही है, लेकिन फिर भी यहाँ यह एक बड़ी ताकत है क्योंकि इसने 2013 के विधानसभा चुनावों में 116796 और 2018 के विधानसभा चुनावों में 80861 वोट हासिल किए।

 

As per 2013 assembly trends 2014 lok sabha results As per 2018 assembly trends
20963  lead by INC 108046  lead by BJP 104777 lead by BJP
BSP=116796;

GGP=58336

BSP=39387; AAP=9691

GGP=23298

BSP=80861; AAP+sapaks=18551;

GGP=88503

Other+indp=85931;

1 major indp=31003

Other+indp=56360;

 

Other+indp=123161;

1 major indp=27121+13876

+9540+32167

Nota=27285 Nota=17350 Nota=24717

 

बसपा के टिकट पर एक अच्छे नेता के साथ, INC के लिए वापसी करना थोड़ा मुश्किल रहेगा। पर वो नेता ही क्या जो मुश्किलों से लोहा न ले।

 

अजय सिंह ने इस बार सीधी से चुनाव लड़ने का फैसला किया, जिसका उन्होंने पहले भी प्रतिनिधित्व किया था (यह कहा जाता है कि 2014 में भी वह सीधी से सतना से चुनाव लड़ना चाहते थे)। अभियान इस बार थोड़ा भावुक है क्योंकि उन्होंने अपनी विधानसभा सीट खो दी है और ऐसा भी बोल दिया कि  हारने की स्थिति में वे राजनीति छोड़ देंगें। पर क्षेत्र में INC  कार्यकर्ताओं का उत्साह और तैयारी काफी अच्छी है।

 

बीजेपी के लिए भी लड़ाई आसान नहीं है, वरिष्ठ ब्राह्मण नेता फिर से सांसद रीती पाठक के मैदान में आने से खुश नहीं हैं, जिला भाजपा अध्यक्ष ने भी विरोध में इस्तीफा दे दिया। यद्यपि वह युवाओं और महिलाओं के बीच अपनी अपील को बरकरार रखती है, लेकिन राज्य में शासन का परिवर्तन मतदाता को राज्य सरकार चलाने वाले पार्टी से सांसद चुनने के लिए मजबूर कर सकता है।

 

मुरैना (01): बैडलैंड स्थलाकृति में ज़बरदस्ती, बूथ कैप्चरिंग और मजबूरन मतदान का इतिहास रहा है, लेकिन समय काफी बदल गया है। INC ने 1991 में आखिरी बार इस सीट पर जीत दर्ज की थी, जब वह SC के लिए आरक्षित सीट थी, 1996, 1998 और 2014 में BSP दूसरे स्थान पर थी (28%-25% वोट हासिल करके)।

 

2013 की विधानसभा में, बसपा को 300000 से अधिक वोट मिले, जो 2018 में घटकर 226000 हो गया। लेकिन, फूलन देवी के कर्म-क्षेत्र में, मतदाता आश्चर्यचकित कर सकता है, बेहेनजी की लोकप्रियता में वृद्धि के साथ, इसे केवल एक अच्छे उम्मीदवारों के साथ स्थानीय उम्मीदवार की आवश्यकता है (पर अब बाहरी उम्मीदवार को खड़ा किया जो की इतना असर नही दिखा पाएंगे)।

 

As per 2013 assembly trends 2014 lok sabha results As per 2018 assembly trends
117329 lead by BJP 132981 lead by BJP 122966 lead by INC
BSP=302908 BSP=242586; BSP=226070;
Other+indp=58908; Other+indp=33275;

Aap=13806

 

Aap=+sapaks=11321

Other+indp=54051;

2 major indp=17671+29796

Nota=10024 Nota=4792 Nota=8859

 

विधानसभा चुनाव में 122000 वोटों की बढ़त से उत्साहित, 28 साल के बाद कांग्रेस इस सीट को जीतने के सबसे करीब है, लेकिन बसपा थोड़ा परेशान कर सकती है।

 

भिंड के पूर्व सांसद रामलखन सिंह बसपा में शामिल हो गए और पिछले तीन महीनों से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे, लेकिन मायावती जी ने बडॉना को चुना, जो हरियाणा से एक बाहरी व्यक्ति हैं, जिससे कांग्रेस को फायदा होना चाहिए। 2009-14। उससे कड़ी टक्कर होगी। INC के श्री रामनिवास रावत के खिलाफ

 

नंबर स्पष्ट रूप से INC के पक्ष में है।

 

भिंड (02):  ये वो सीट है जहाँ जाति के गणित सबसे निर्णायक भूमिका अदा करता है, 1989 से बीजेपी ने ही जीत हासिल की है। पिछले चुनाव में बसपा ने केवल 33000 वोट हासिल किए थे, क्योंकि श्री फूल सिंह बररैया जो कि एक प्रमुख दलित नेता है, उन्होंने अपना खुद का राजनीतिक संगठन बनाया और मुरैना से चुनाव लड़ा। बररैया दो महीने पहले कांग्रेस में शामिल हो गए थे और उम्मीदवारी की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन कांग्रेस ने पूर्व बसपा के युवा नेता, 28 वर्षीय देवाशीष जरारिया को मैदान में उतारा, जो पिछले साल कांग्रेस में शामिल हुए थे। जरारिया पिछले वर्ष हुए ‘दलित महाबंध ’के दौरान हिंसा में कथित भूमिका के लिए खबरों में थे। INC में श्री अशोक अर्गल को उतारने का विकल्प भी मिला, जिन्होंने भाजपा के लिए 4 बार मुरैना का प्रतिनिधित्व किया है, लेकिन पार्टी हाई कमान की टीम ने जरारिया पर अधिक विश्वास किया।

 

इस कुख्यात क्षेत्र में राजनीति को कितनी गंभीरता से लिया जाता है, इसका अंदाज़ा इस बात से लगाए की मध्य प्रदेश में, भिंड, मुरैना और ग्वालियर में सबसे कम NOTA वोट चुना जाता हैं।

 

As per 2013 assembly trends 2014 lok sabha results As per 2018 assembly trends
61434 lead by BJP 159961 lead by BJP 99542 lead by INC
BSP=170175 BSP=33803; AAP=7730 BSP=132578; AAP+sapaks=7644
Other+indp=79113;

8 major independents =9758

+11776+16893+12783+13186

15932+16690+13389

Other+indp=32992;

 

 

Other+indp=54020;

3 major indp=30474+28160+

15307

Nota=7377 Nota=5572 Nota=7812

 

2018 विधानसभा चुनावों में, 8 में से 5 पर में जीत के साथ, आंकड़े यहाँ कांग्रेस का पक्ष लेते हैं और इस बार मोदी लहर भी नहीं है। संभावना कम है कि जराडिया को टिकट देने से जातिगत तनाव आदि की स्तिथि बने, लेकिन कोई राजनीतिक पंडित इस बारे में आश्वस्त नहीं कर सकता है।

 

ग्वालियर (03):  हालांकि यहाँ बसपा ना कभी नहीं जीती ना जीतने के करीब पहुंची, लेकिन 2014 के आम चुनावों में, बसपा को 68000 से अधिक वोट मिले, और कांग्रेस को 29600 मतों से हार का सामना करना पड़ा।

 

INC ने श्री अशोक सिंह को मैदान में उतारा जो पिछली बार भी लड़े थे और काफी कम अंतर से हार गए थे। वह पिछले 4 वर्षों से कड़ी मेहनत कर रहे हैं और उनका मनोबल इस संसदीय क्षेत्र में कांग्रेस के सात विधायक मौजूद होने से औऱ बढ़ जाता है।

 

भाजपा ने श्री शेलवल्कर को मैदान में उतारा, जिनके पिता ने 1977 और 1980 में INC उम्मीदवारों को हराकर ग्वालियर का प्रतिनिधित्व किया।

 

ग्वालियर में कम्युनिस्ट और समाजवादियों की भी मौजूदगी है, जिसने बीएसपी को अपना आधार बनाने में बहुत मदद की।

 

As per 2013 assembly trends 2014 lok sabha results  As per 2018 assembly trends
1608 lead by INC 29699 lead by BJP 133936 lead by INC
BSP=178272 BSP=68196; AAP=15510 BSP=187301; AAP+sapaks=11963
Other+indp=60728;

3 major independents =

12396+17000+14578

Other+indp=51094;

 

 

Other+indp=56695;

3 major indp=30745+9154+

9098

Nota=16067 Nota=4219 Nota=7812

 

लेकिन, इस बार INC को निश्चित रूप से ग्वालियर को जीतना चाहिए, वह भी 80000+ मतों के अच्छे अंतर से।

 

खजुराहो (08): ऐतिहासिक रूप से, सीट ब्राह्मणों और ठाकुरों के बीच एक प्रतियोगिता रही है, सिवाय इसके कि जब श्रीमती उमा भारती (1996, 1998) जीतीं और श्री कुसुमरिया जीते (2004)। कांग्रेस ने आखिरी बार यह सीट 1999 में वरिष्ठ ब्राह्मण नेता स्वर्गीय सत्यव्रत चतुर्वेदी के नेतृत्व में जीती थी।

 

खजुराहो और टीकमगढ़ दोनों में, सामंतवाद सामाजिक संरचना निर्धारित करता है और मुश्किल से एक दर्जन परिवार सक्रीय राजनीति में हैं और आम आदमी आज भी उदासीन बना हुआ है। हालांकि हाल ही में, मौसम की निरंतर मार और बाहरी विधायकों की उदासीनता से हताश होकर, लोग राजनीतिक रूप से संगठित होने के लिए प्रेरित हुए हैं- सबसे अच्छा उदाहरण पन्ना की ‘क्षत्रिय संघर्ष समिति’ है जो सभी जातियों और व्यवसायों के लोग है, और उनकी प्रमुख मांग है कि सभी राजनीतिक पार्टियां एक ‘स्थानीय उम्मीदवार’ को मैदान में उतारें ‘, और लोग खुले तौर पर कहते हैं, वे पार्टी के बजाय स्थानीय उम्मीदवार का समर्थन करेंगे।

 

जातिगत आधार पर देखें तो लोधी और ठाकुरों की अधिकतम संख्या है, इसके बाद ब्राह्मण और यादवों की होनी चाहिए, फिर  आदिवासियों और दलितों की संख्या लगभग बराबर है।

 

पिछली बार भाजपा के पास 247000 से अधिक मतों की बढ़त थी, जबकि बसपा को 60000 और सपा को 40000 मिले थे। इस बार सपा मप्र में केवल तीन सीटों पर चुनाव लड़ रही है, जिनमें से एक खजुराहो है, जिसमें बसपा उम्मीदवार का समर्थन कर रही है। सपा ने श्री वीर सिंह पटेल को टिकट दिया जो की  पूर्व बाग़ी ’ददुआ’ के पुत्र हैं, इन्हें 70000  मत प्राप्त होने की उम्मीद है, जिस कारण भाजपा को 1,00,000 से अधिक मतों की बढ़त सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी।

 

As per 2013 assembly trends 2014 lok sabha results As per 2018 assembly trends
114595 lead by BJP 247490 lead by BJP 142806 lead by BJP
BSP=147074; GGP=6314 BSP=60368; AAP=8930

SP=40069

BSP=142806; AAP+sapaks=18221

Sp=65402

Other+indp=131435; Other+indp=54790 Other+indp=62934;
Nota=26862 Nota=7878 Nota=18457

 

कांग्रेस के पास दो विधायक हैं जबकि भाजपा के पास पांच हैं। INC ने कैबिनेट मंत्री की पत्नी श्रीमती कविता राजे को मैदान में उतारा, जबकि भाजपा ने इसे सुरक्षित सीट मानते हुए एक बाहरी श्री वी डी शर्मा को मैदान में उतारा है।

 

टीकमगढ़ (06):  INC ने पिछली बार 1971 में इस आरक्षित सीट (आरक्षित के रूप में) को जीता था, तबसे बीजेपी के कब्जे में ही है।

 

पिछले लोकसभा चुनाव में सपा को लगभग 24000 और बसपा को 47000 वोट मिले थे, इस बार भी सपा को 50000 से अधिक वोट मिलने की उम्मीद है।

 

As per 2013 assembly trends 2014 lok sabha results As per 2018 assembly trends
75592 lead by BJP 208731 lead by BJP 98725 lead by BJP
BSP=99891; SP=46788 BSP=23975; AAP=4992

SP=47497

BSP=141376; AAP+sapaks=11664

SP=65402

Other+indp=108722;

5 major independent= 15516

+12158+12668+19442+

17683

Other+indp=42575

 

 

Other+indp=77304;

1 major indp=26600

Nota=13462 Nota=10055 Nota=8313

 

 

अंकगणित बताता है कि यह भाजपा के लिए एक आसान जीत होनी चाहिए। इसलिए इसने स्थानीय भाजपा पार्टी कार्यकर्ताओं (जिला भाजपा अध्यक्ष के विरोध में इस्तीफा दे दिया) के विरोध के बाद भी मौजूदा सांसद MoS GoI श्री वीरेंद्र खटीक को मैदान में उतारा दिया। INC ने महिला उम्मीदवार श्रीमती किरण अहिरवार, जो कि क्षेत्र में काफी सक्रिय हैं को मैदान में उतारा है।

 

बालाघाट (15):  शेष की तुलना में बालाघाट बहुत अलग सीट है। अधिकांश क्षेत्रों की तुलना में सामाजिक-आर्थिक पैरामीटर बेहतर हैं। राष्ट्रीय मुद्दों पर जागरुकता और क्षेत्र के लंबे कम्युनिस्ट इतिहास की बदौलत लोकतांत्रिक संस्थानों की समझ को देखकर कोई भी चकित रह जाएगा।

 

INC ने पिछली बार 1996 में विश्वेश्वर भगत की उम्मीदवारी के तहत यह सीट जीती थी, इस बार यह फिर से पास है। लेकिन चूंकि बालाघाट कम्युनिस्टों की गतिविधि का एक क्षेत्र है, इसलिए सपा के उम्मीदवार को भी अच्छा समर्थन मिलने की उम्मीद है।

 

As per 2013 assembly trends 2014 lok sabha results As per 2018 assembly trends
31042  lead by BJP 96041  lead by BJP 8679  lead by BJP
BSP=83451;

SP=116483

BSP=46345; AAP=9898

SP=99392

BSP+AAP=59001

SP=93298

Other+indp=61899;

1 major indp=65402

Other+indp=49562;

CPI=20297

Other+indp=72717;

1 major indp=17113

GGP=14910 GGP=5225 GGP=19242
Nota=20734 Nota=18741 Nota=15603

 

नंबर क्रंचिंग से पता चलता है कि बीजेपी के पास लगभग 30000-40000 की संकरी बढ़त है, लेकिन सपा उम्मीदवार श्री कंकर मुंजारे, जो इस क्षेत्र में बहुत सक्रिय और लोकप्रिय हैं, को 80000-90000 वोट ज़रूर मिल रहे हैं। मार्जिन को कवर करने के लिए कम ज्ञात INC उम्मीदवार श्री मधु भगत के लिए यह एक मुश्किल काम होगा।

 

बीजेपी को 60000 से अधिक मतों के अंतर से जीतने में सक्षम होना चाहिए।

 

 

–  अलोक यादव

 

1 thought on “मध्यप्रदेश की लोकसभा सीटों का एक विश्लेषण”

Leave a Reply

Your email address will not be published.